तुलसी डगोरी

स्याम के आँचल के मुख,

बोले तस्वीर से दुख,

आखों मे लिए मुस्कान,

करे हम भागवत को नमस्कार,

 

सुन प्रभु खोट की नाई |

तब जाके लीक साई,

गोवर्धन नाथ वो कहलाई,

सूभ उठे तो  लिए अंगड़ाई |

Advertisements